Posts

Image
भारत के इस राज्य की महिलाएं बिना ब्लाउज़ के पहनती हैं साड़ी जाने क्यों...
महिलाएं बिना ब्लाउज़ के पहनती हैं साड़ी – साड़ी भले ही सिंपल और हल्की हो, लेकिन यदि ब्लाउज़ डिज़ाइन हो तो साड़ी का लुक ही बदल जाता है.
अधिकांश औरते साड़ी से ज़्यादा ब्लाउज़ की डिज़ाइन पर ही ध्यान देती हैं, क्योंकि यही उन्हें ज़्यादा स्टाइलिश बनाता है, मगर हमारे देश में एक जगह ऐसी भी है जहां महिलाएं ब्लाउज़ ही नहीं पहनती. अरे नहीं, हम किसी मॉडल या हीरोइन की बात नहीं कर रहें. हम आम महिलाओं की ही बात कर रहे हैं, मगर अपने इस अजीब रिवाज़ की वजह से वो खास बन गई हैं. चलिए आपको बताते हैं बिना ब्लाउज़ वाली इन महिलाओं के बारे में.
दरअसल, ये छत्तीसगढ़ की आदिवासी महिलाएं बिना ब्लाउज़ के पहनती हैं साड़ी. यहां की परंपरा के मुताबिक महिलाओं को ब्लाउज पहनने की अनुमति नहीं है. इस परंपरा के अंतर्गत महिलाएं ना तो खुद ब्लाउज पहनती है और ना ही गांव की किसी और महिलाओं को इसे पहनने देती हैं. इन इलाकों में रहने वाले लोग शुरू से अपनी परंपरा को निभाते चले आ रहे हैं.
लेकिन हाल ही में ऐसी खबरें आई थी कि यहां रहने वाली कुछ लड़कियों ने ब्लाउज…
Image
पिता की मौत पर बेटियों ने किया डांस, जानें क्या है पूरा मामला? अपनी मौत से पहले उन्होंने अपनी बेटियों के सामने एक इच्छा रखी थी. उन्होंने कहा था कि उनकी मौत को मातम के बजाए किसी बड़े उत्सव की तरह मनाया जाए और शव यात्रा भी धूमधाम से निकाली जाए.नई दिल्ली: मौत पर शोक तो सभी मनाते हैं लेकिन मौत पर डांस की खबर आपने शायद पहली बार सुनी होगी. नोएडा की चार बेटियों ने अपने पिता की मौत पर एक अनोखी मिसाल पेश की है. इन बेटियों ने पिता की मौत पर रोने के बजाए डांस किया. आपको हैरानी होगी लेकिन ये सच है. दरअसल, पान सेलर्स वेलफेयर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हरिभाई लालवानी को गुरुवार रात ब्रेन स्ट्रोक हुआ और शुक्रवार को उनका निधन हो गया. हरिभाई लालवानी ‘गुटखा किंग’ के नाम से मशहूर थे.
अपनी मौत से पहले उन्होंने अपनी बेटियों के सामने एक इच्छा रखी थी. उन्होंने कहा था कि उनकी मौत को मातम के बजाए किसी बड़े उत्सव की तरह मनाया जाए और शव यात्रा भी धूमधाम से निकाली जाए.
हरिभाई लालवानी की बेटियों ने अपने पिता की इच्छा को पूरा किया और उनकी शवयात्रा को बड़ी धूमधाम से निकाला. बेटियों ने बैंड बाजे का इंतजाम किया और …
Image
दो हजार के नोट हए बंद लाइन लगाकर बैंक में जमा करा रहे लोग, जानिए क्‍यों
भितरवार। बुधवार को नोटबंदी की पहली बरसी थी और इस दिन शरारती तत्वों ने फिर नोटबंदी की अफवाह फैला दी। इसके बाद दोपहर 12 बजे के बाद एसबीआई, सेंट्रल बैंक समेत सभी बैंकों की शाखाओं में एक सैकड़ा से ज्यादा लोगों ने 2 हजार के नोट जमा करा दिए। अफवाह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ट्विट को आधार बनाकर फैलाई गई। अफवाह की वजह से बड़ी संख्या में लोगों के बैंक पहुंचकर दो हजार रुपए के नोट जमा करने की बात बैंक अधिकारी भी स्वीकार कर रहे हैं।

नोटबंदी की बरसी से चार पांच दिन पूर्व से सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नोटबंदी को लेकर नोटबंदी पार्ट-2 टिवट को लेकर चर्चा हो रही थी। इसी को आधार बनाकर शरारती तत्वों ने बुधवार को नोटबंदी की बरसी पर फिर से नोटबंदी की अफवाह फैला दी। इसके चलते सभी बैंकों की शाखाओं में करीब एक सैकड़ा लोगों ने पहुंचकर 2 हजार के नोट जमा कराए। इस संबंध में एसबीआई प्रबंधक एचके माथुर ने बताया कि अफवाह के चलते ऐसे दो दर्जन से ज्यादा उपभोक्ताओं ने दो-दो हजार के नोट अपने खातें में जमा कराए। इनमें ऐसे लोग ज्यादा …
Image
70 साल के बुजुर्ग ने की इस जवान लड़की से शादी, ये है इसकी पूरी सच्चाई...
नई दिल्ली: दूल्हा बने इस बुजुर्ग शख्स और अपनी से आधी उम्र की इस दुल्हन की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। माना जा रहा है कि तकरीबन 70 साल के शख्स ने खुद से 40-45 साल छोटी लड़की से शादी की है। यूजर्स का दावा है कि ये बुजुर्ग अपोलो हॉस्पिटल के डायरेक्टर राजेश कुमार हिमतसंग्का हैं। हालांकि, सच्चाई यह नहीं है।



यह तस्वीर असम राज्यसे ताल्लुक रखने वाले बिजनेसमैन राजेश कुमार हिमतसंग्का की है।
राजेश कुमार को साल 1987 में 'हिमतसंग्काऑटो एंटरप्राइजेज लिमिटेड' का मैनेजिंग डायरेक्टर नियुक्त किया गया था। हालांकि, इन दिनों उनके बेटे और परिजन बिजनेस संभालते हैं।
हिमतसंग्काग्रुप का सीड्स कंपनी के अलावा हॉस्पिटैलिटी, ऑटो, मोटर वर्क्स समेत कई क्षेत्रों में बिजनेस है। उनका बिजनेस असम के अलावा पश्चिम बंगाल समेत दूसरी जगहों पर फैला हुआ है।
यूजर्स का दावा
एक फेसबुक यूजर Kuwali Das का दावा है कि वे राजेश कुमार हिमतसंग्काको अच्छी तरह से जानती हैं। उन्होंने लिखा है, ''मैं राजेश अंकल से अच्छी तरह से परिचित हूं। वे मेरे…
Image
सरकार ने लगाई मुहर, 21000 रुपए हुई मिनिमम सेलेरी!
सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के मुताबिक न्यूनतम वेतन को 7,000 रुपए से बढ़ाकर 18,000 रुपए महीने करने को पहले ही मंजूरी दे दी है।
केंद्रीय कर्मचारियों की मांग है कि न्यूनतम वेतन 18,000 रुपए महीने से बढ़ाकर 26,000 रुपए महीने किया जाए।सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें आने के बाद से ही केंद्रीय कर्मचारियों की वेतन और बढ़ाने की मांग चल रही है। ताजा रिपोर्ट्स की मानें तो सरकार ने न्यूनतम वेतन को 18,000 रुपए से बढ़ाकर 21,000 रुपए कर दिया है। अब सबसे बड़ा सवाल है कि अगर सरकार ने इसे मंजूरी दे ही तो यह कब मिलेगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्रीय कर्मचारियों को यह बढ़ी हुई सैलरी जनवरी 2018 से मिलनी शुरू हो जाएगी। मतलब जनवरी के आखिर में बढ़ी हुई सैलरी आएगी। अक्टूबर में भी ऐसी रिपोर्ट्स आई थीं कि केंद्र सरकार ने न्यूनतम सैलरी को 18 हजार रुपए से बढ़ाकर 21,000 रुपए करने को हरी झंडी दे दी है। इसके अलावा फिटमेंट फेक्टर को भी बढ़ाने की खबरें आई थीं। नेशनल अनोमली कमेटी और डिपार्टमेंट ऑफ एक्सपेंडिचर ही अंतिम फैसला लेंगे। इनका एक पैनल बनाया गया है। इस पैनल में 22 …
Image
7th Pay Commission: इन कर्मचारियों का बढ़ाया गया भत्ता अगर दिव्यांग बच्चे के माता और पिता दोनों केंद्र सरकार के कर्मचारी हैं तो कोई एक ही बच्चे के लिए भत्ता ले सकता है।केंद्रीय कर्मचारियों की मांग है कि न्यूनतम वेतन 18,000 रुपए महीने से बढ़ाकर 26,000 रुपए महीने किया जाए।
सातवें वेतन आयोग के तहत सरकार ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों के दिव्यांग बच्चों के लिए मिलने वाले भत्ते को बढ़ा दिया है। अभी तक केंद्रीय कर्मचारियों के दिव्यांग बच्चों को 30,000  रुपए का पढ़ाई भत्ता मिलता है। सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के बाद इसे अब बढ़ाकर 54,000 रुपए सालाना कर दिया गया है। सातवें वेतन आयोग के तहत अन्य बच्चों की तुलना में केंद्रीय कर्मचारियों के बच्चों का एजुकेशन भत्ता दोगुना कर दिया गया है। आम दिव्यांग बच्चों की पढ़ाई के लिए 2,250 रुपए महीने एजुकेशन भत्ता मिलता है। अगर दिव्यांग बच्चे के माता और पिता दोनों केंद्र सरकार के कर्मचारी हैं तो कोई एक ही बच्चे के लिए भत्ता ले सकता है। पहले आम दिव्यांग बच्चों को यह भत्ता 1,500 रुपए महीने मिलता था।
डिपार्टमेंट ऑफ पर्शनल एंड ट्रेनिंग ने बताया कि दिव्यांग बच्च…
Image
iPhone के लिए बेची वर्जिनिटी, होटल में टूट पड़े दरिंदे.. देखें वीडियो

आज के इस आधुनिक दौर में युवाओं को नए-नए शौक की आदत पड़ गई है. आजकल के युवा एशो-आराम हासिल करने के लिए क्या-क्या नहीं कर जाते हैं. आईफोन की दीवानगी ऐसी है कि चीन में एक लड़की आईफोन-8 के लिए अपनी वर्जिनिटी बेचने को तैयार हो गई.
आईफोन के लिये बेच दी वर्जिनिटी
17 साल की इस लड़की को वर्जिनिटी बेचने का आइडिया स्कूल में अपनी सहेली से मिला था. उसे खरीदार भी मिल गया. लेकिन जब वर्जिनिटी खरीदने वाला होटल में लड़की से मिलने पहुंचा तो वह अकेला नहीं था. उसके दोस्त उसके साथ थे. उनके हाथ में कैमरा भी था और वह सबकुछ शूट कर रहे थे.
वर्जिनिटी बेचने की कीमत 2284 पौंड दरअसल 17 साल की लड़की जियो चेन ने एक ऑनलाइन फोरम में अपनी वर्जिनिटी बेचने की कीमत 2284 पौंड लगाई थी. इसके साथ ही उसने एक शर्त रखी थी कि उसे यह पैसे कैश में चाहिए. जियो चेन की इस एड पर नाना नाम के एक व्यक्ति की नज़र पड़ी. नाना राजधानी बीजींग के रहने वाले एक ब्लॉगर हैं. एड देखने के बाद नाना नाम के इस ब्लॉगर ने लड़की को इस तरह की बेवकूफी के लिए सबक सिखाने की ठान ली. उसके बाद ना…